arogya setu app क्या है और यह कैसे कोरोना वायरस से हमें सेफ रखता है

arogya setu app, आजकल जहां पर देखो कोरोनावायरस ही चर्चा में चल रहा है जो कि काफी ज्यादा है खतरनाक वायरस है क्योंकि यह नया वायरस है और इसके पहले आए हुए अन्य सभी से काफी ज्यादा काफी ज्यादा स्ट्रांग है, इसलिए हमारा इम्यून सिस्टम इसको नहीं पहचान पा रहा और वायरस पूरे शरीर को जकड़ ले रहा है, किसी भी वायरस की प्रॉपर वैक्सीन बनाने में लगभग 3 से 2 साल तक का समय लग जाता है और इस कोरोना वायरस की बात करें तो इसका वैक्सीन भी इस साल के अंत तक या 2021 में देखने को मिलेगा।
अब क्योंकि COVID-19 की कोई दवा अभी तक नही बनाई जा सकी है और लोंगों से दूरी बनाकर रहना ही इसका अभी प्रमुख बचाव है इसलिए इसको देखते हुए विश्व के लगभग सभी देशों में अनिवार्य रूप से लॉकडाउन को लागू किया गया है साथ ही लॉकडाउन के अलावा भी इससे बचने को लेकर सभी देशों की सरकारें अपने-अपने तरीके से अपने लोगों को बचाने के उपाय खोज रहे हैं।
मेडिकल क्षेत्र के अलावा इससे बचने के लिए युद्ध स्तर पर टेक्नोलॉजी की भी मदद ली जा रही है और इसी में से एक उपाय है "आरोग्य सेतु(arogya setu app)" एप।
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के द्वारा "आरोग्य सेतु" ऐप को डाउनलोड करने के लिए लोगों को कहा गया है, जो कि इस वायरस से लोगों को बचाने में काफी ज्यादा मददगार साबित हो सकता है।

"arogya setu app" क्या है?

आरोग्य सेतु एक साधारण मोबाइल एप ही है जिसे आप अपने स्मार्टफोन में इंस्टॉल कर सकते है, यह एप 12 भाषाओं में उपलब्ध है जिसमें से किसी एक भाषा को चुन सकते है(भाषा को बाद में यदि चेंज करना चाहे तो कर सकते है), इंस्टॉल करने के बाद यह कुछ इन्फॉर्मेशन मांगता है और साथ ही bluetooth और gps एक्सेस मांगता है जिसके बाद इसको allow करने के बाद यह आपको कोरोना वायरस से खतरे के बारे में सूचना देता है, यदि आपके पास पिछले कुछ घंटे या दिनों में कोई ऐसा व्यक्ति मौजूद था या होकर गुजरा था जो कि कोरोना वायरस का सस्पेक्ट है या इंफेक्टेड है तो एप के माध्यम से आपको यह सूचना दी जाती है जिससे आप सतर्क हो जाएं या और खुद को क्वारन्टीन कर लें ताकि आपके परिवार को ये समस्या न हो जाय।

"arogya setu app" कैसे काम करता है?

"आरोग्य सेतु" एप भारत सरकार के द्वारा जारी किया गया है, एप को यूज करने वाले व्यक्ति की कुछ जरूरी प्रोफाइल डेटा जैसे NAME, NUMBER, क्या उस पर्सन को कोई Helth से जुड़ी समस्या है, क्या पिछले कुछ दिनों से उस व्यक्ति की डोमेस्टिक या इंटरनेशनल ट्रेवल हिस्ट्री रही है इत्यादि जानकारी उसमें भरी जाती है।
एप में यूजर द्वारा bluetooth और gps की एक्सेस ली जाती है और इन्हीं रिसोर्सेज को प्रयोग करके ट्रैक किया जाता है कि वह कहां-कहां जा रहा है।
मान लेते है वायरस से इन्फेक्टेड कोई व्यक्ति पास की किराना की शॉप पर जाकर खरीददारी करता है और बाद में यह पता चलता है कि वह सचमुच वायरस से ग्रसित है तब उसको हॉस्पिटल में भेजने के साथ उस एरिया के लोंगों को क्वारन्टीन करना जरूरी हो जाता है और उस व्यक्ति से यह भी जानकारी ली जाती है कि पिछले कुछ दिनों में वह किन-किन जगहों पर गया था, इस कार्य में हमारी सरकार लगातार बेहतरीन प्रयास कर रही है।

Railwire WiFi रेलवे स्टेशन पर फ्री WiFi हमें कैसे मिलता है?

MWC 2019 मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस क्या है और क्यों आयोजित किया जाता है?

क्योंकि हमारे पास यह डेटा नही है कि उस दौरान कितने लोग उस व्यक्ति के पास से गये थे तो उस क्षेत्र सभी लोंगों को क्वारन्टीन कर दिया जा रहा है, अब उस एरिया में जिन लोंगों ने भी आरोग्य सेतु एप को इंस्टॉल किया हुआ है सभी को ट्रैक करके यह पता लगाया जा सकता है कि उस समय कितने लोग शॉप पर मौजूद थे इसके बाद उन सभी को मैसेज भेज कर यह सूचना आसानी से दी जा सकती है कि वह एक ऐसे व्यक्ति से मिले थे जो कि COVID-19 से इन्फेक्टेड है, जिसके बाद वे खुद को क्वारन्टीन कर सकते है।
कोई ऐसा व्यक्ति जो कि कोरोनावायरस का सस्पेक्ट है या जिसे कोरोनावायरस हो गया है यह पता चलने के बाद उसकी ट्रैवल हिस्ट्री पता करी जाती है मतलब पिछले 7-14 दिनों में व्यक्ति कहां-कहां गया है और किस-किस से मिला है इन सब का पता लगाया जाता है, यह सारा काम मैन्युअल रूप से किया जाए तो यह काफी मुश्किल हो जाता है और यह सब कुछ पता करने के बाद हो सकता है उन सबको भी क्वारन्टीन करना पड़े।
लेकिन आरोग्य सेतु एप की मदद से एक क्लिक में उस व्यक्ति की ट्रेवल हिस्ट्री का पता लगया जा सकता है और समय रहते उचित कदम भी उठाए जा सकते है।

"arogya setu app" के अन्य फायदे-

आपको सुरक्षित करने के साथ-साथ एप में COVID-19 से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां दी हुई है जिससे आप कन्फ्यूज न हो या अफवाहों पर ध्यान न दें।
इसके अलावा कोरोना वायरस से संबंधित पूछताछ के लिये सारे राज्यों की हेल्पलाइन भी दी गई हैं साथ ही मरीजों की संख्या के बारे में भी डिस्ट्रिक्ट वाइज जानकारी दी गई है, इसके अलावा इसमें पीएम केयर फण्ड से जुड़ी जानकारी भी दी गई है जहां पर जाकर PM CARE FUND में कुछ डोनेशन दान भी अपनी तरफ से दे सकते हैं।
arogya-setu-app
मेरी आप सबसे यह निवेदन है कृपया जब तक हम सब इस जानलेवा कोरोना वायरस से पुरी तरह सुरक्षित या जब तक यह खत्म नही हो जाता, तब तक सोशल डिस्टेंसिंग को मेंटेन रखिये, लोंगों से दूरी बनाकर रखिये, अपने घर पर ही रहिये, अफवाहें न फैलाइये न किसी को फैलाने दीजिये, सोशल मीडिया पर जो कुछ भी आता है जरूरी नही की वह सच हो सही जानकारी के लिए अरोग्य सेतु एप पर विजिट कर सकते है जहां पर सारी ऑफिसियल जानकारी दी गई है साथ ही यदि आपने अभी तक आरोग्य सेतु एप को इंस्टॉल नही किया है तो कृपया अभी इंस्टॉल कर लीजिए यहाँ क्लिक करें-
यदि आपने इस एप को इंस्टॉल किया हुआ है तो भी जब आप घर से बाहर निकलते हैं तब यह एप्लीकेशन आपको नोटिफिकेशन भेजता रहेगा कि कौन सा एरिया रेड जोन है यानी कि corona infected है और यह जानकारी आपको इफ़ेक्ट होने से बचा सकती है।
PMO के स्टेटमेंट के अनुसार arogya setu app, epaas की भी सुविधा प्रदान कर सकता है, जब आप एक जगह से दूसरे जगह यात्रा कर रहे हो तब और सरकारी कर्मचारियों के लिए यह एप उनके फोन में होना अनिवार्य कर दिया गया है।
पूरे भारत में कोरोना वायरस टेस्टिंग लैब कहां-कहां पर मौजूद है, तो इन सबके बारे में भी इस एप में उन सभी प्राइवेट और भारत सरकार द्वारा चलने वाली लैब के बारे में जानकारी दी गई है।

Post a comment

0 Comments